No icon

पॉश इलाके में ₹60 के पीछे बैट से शख्स को पीट-पीटकर किया अधमरा, वजह जान रह जाएंगे हैरान

दक्षिणी दिल्ली के पॉश इलाके के वसंत विहार में एक दिल को दहला देने वाली घटना सामने आई है. इस इलाके का काफी मशहूर प्रिया कंपलेक्स जहां एक व्यक्ति ने एमसीडी के पार्किंग में काम करने वाले कर्मचारी को क्रिकेट खेलने वाले बैट से इतना पीटा कि वह अधमरा हो गया.

मुकेश/ नई दिल्ली: दक्षिणी दिल्ली के पॉश इलाके के वसंत विहार में एक दिल को दहला देने वाली घटना सामने आई है. इस इलाके का काफी मशहूर प्रिया कंपलेक्स जहां एक व्यक्ति ने एमसीडी के पार्किंग में काम करने वाले कर्मचारी को क्रिकेट खेलने वाले बैट से इतना पीटा कि वह अधमरा हो गया. हैरानी की बात यह है कि रात लगभग 9:40 पर हुई इस घटना के वक्त आरोपी पीड़िता को बैट से पीटता रहा, लेकिन उसे बचाने के लिए कोई नहीं आया. 

क्या है पूरा मामला? 
1 फरवरी को शाम लगभग 6:30 बजे विक्रमजीत सिंह नाम का एक शख्स अपनी कार से प्रिया कंपलेक्स के पीछे एमसीडी की पार्किंग में अपने कार को पार्क किया. रात लगभग 9:30 बजे वह नशे की हालत में अपनी कार के पास आया. एमसीडी पार्किंग में काम करने वाला युवक जिसका नाम विकास है, वह कार पार्किंग के एवज में ₹60 कार के मालिक से मांगने लगा, लेकिन नशे में धुत विक्रमजीत सिंह पैसा देने के बजाय पार्किंग वाले लड़के को धमकी देने लगा. इतनी देर में पार्किंग वाले लड़के विकास के साथ में काम करने वाला मनोज भी आ गया. उसने भी निवेदन करके पैसे मांगे, लेकिन विक्रमजीत सिंह ने मनोज को थप्पड़ मारना शुरू कर दिया. 

 

पार्किंग में काम करने वाले लड़कों ने  कहा कि आप पैसे मत दीजिए यहां से अपनी गाड़ी लेकर चले जाइए, लेकिन नशे में धुत में कुछ भी सुनने को तैयार नहीं था. उसने अपने गाड़ी से क्रिकेट खेलने वाला बैट निकाला और अंधाधुन विकास को मारने लगा. विकास और मनोज पिटाई से बचने के लिए वहां से भागते हुए प्रिया कॉन्प्लेक्स की तरफ आए. उन्हें लगा कि वहां काफी लोग हैं, इनकी जान बच जाएगी. भागते-भागते मनोज पीवीआर के एक रेस्टोरेंट में जाकर छुप गया जबकि विकास को आरोपी ने 24x7 शॉपिंग कॉमप्लेक्स के सामने पकड़ लिया और सरेआम बल्ले से पीटता रहा. उसने उसके सर पर इतने बार हमला किया कि उसका सर बुरी तरह जख्मी हो गया. हैरानी की बात रही कि रात 9:40 पर जब यह सारा विवाद प्रिया कंपलेक्स में हो रहा था उस वक्त वहां काफी लोग मौजूद थे,लेकिन सभी तमाशबीन बनकर तमाशा देखते रहे. किसी ने दोनों की मदद नहीं की. 

बता दें कि जिस जगह ये पूरी घटना घटी उसी से सिर्फ 100 मीटर की दूरी पर पुलिस बूथ है, लेकिन वहां कोई पुलिसकर्मी भी शख्स को बचाने के लिए नहीं आया. साथ ही बत दें कि इस पॉश इलाके में  चप्पे-चप्पे पर सीसीटीवी कैमरे लगे हुए हैं. इस पूरी घटना के बाद यहीं से किसी ने 100 नंबर पर पुलिस को कॉल किया, जिसके बाद एंबुलेंस के द्वारा घायल को एम्स ट्रॉमा सेंटर पहुंचाया गया. जहां पर घायल विकास की हालत गंभीर बनी हुई है. विकास शादीशुदा है और उसके 3 बच्चे है. विकास झारखंड का रहने वाला है और वह बीते कई सालों से पार्किंग में काम करता है. 

पुलिस ने इस पूरे घटना के बाद मुकदमा दर्ज कर लिया है और घटना वाली रात को ही आरोपी, विक्रमजीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया है.आरोपी विक्रमजीत सिंह साकेत के एक नामी स्कूल में पीटी टीचर है. फिलहाल इस पूरी घटना के बाद पुलिस अपनी कार्रवाई कर रही है, तो दूसरी तरफ विकास की जान बचाने के लिए एम्स अस्पताल में डॉक्टर जी जान कोशिश कर रहे हैं. इस घटना से सोचने की जरूरत है कि अगर वक्त रहते यहां के लोग ने थोड़ी सी भी कोशिश की होती तो शायद विकास की हालत आज ऐसे नहीं होती.
 

 

Comment